इस भीड़ की दुनिया भर में बड़ी मांग है

हम भीड़ बनना चाहते हैं और एक ऐसी भीड़ बनना चाहते हैं जिसकी दुनिया भर में बहुत मांग है। हमें खुशी होगी, यदि आप भी इस #भीड़ का हिस्सा बनें जो एक नई राह दिखाए।

जागृत टीम

दोस्तो, हम एक नए आइडिया के साथ उपस्थित हुए हैं। उम्मीद है जागृत इंडिया को पहले से ज्यादा प्यार और स्नेह मिलेगा।

जागृत टीम कई महीनों से मंथन कर रही थी कि समाचार और डिजिटल प्लेटफार्म का ऐसा व्यंजन तैयार किया जाए जो अधिकतर लोगों के लिए उपयोगी और लाभकारी हो। इसके लिए बहुत सी किताबों को जहां पढ़ने का मौका मिला, वहीं बहुत से जानकारों से भी बात हुई।

समाचार का बिजनेस

हम समाचार का बिजनेस करने जा रहे हैं। आप भी इस बिजनेस का हिस्सा बनें। सच्ची बात यही है कि यदि आप को इस बिजनेस का हिस्सेदार नहीं बनाना होता तो इतना माथापच्ची करने की जरूरत ही नहीं पड़ती और न हम यह सब लिखते।

ये सब लिखने और बताने की जरूरत इसलिए पडी़ क्योंकि बहुत से लोग सेवा के नाम पर कारोबार करते हैं। यह अच्छी बात नहीं है। इंटरनेट की दुनिया बड़ी हद तक स्वच्छता और स्पष्टता सिखाती है। हम इसका लाभ उठाना चाहते हैं। यहीं से उस “भीड़” का काम शुरू हो जाता है, जिस की दुनिया भर में बड़ी मांग है। संयोग से हम और आप भी उस भीड़ का हिस्सा हैं। लेकिन अच्छी बात यह है कि इस भीड़ से न तो डर लगता है और ना ही ये भेड़ चाल चलती है। यह आज की दुनिया की सबसे सुघड़ और कामकाजी भीड़ है। इसीलिए हम आप सबसे जागृत इंडिया के साथ जुड़ने का आग्रह करते हैं।

क्यों जुड़ें ?

यह सवाल बहुत अहम है। #jagritindia या किसी भी दूसरे समाचार पोर्टल/चैनल से क्यों जुड़ें, इसमें जुड़ने वाले का क्या फायदा है? इस का जवाब देने से पहले यह पूछना जरूरी है कि आप किसी पोर्टल/चैनल पर क्यों जाते हैं? जानकारी लेने और एक चीज़ को अलग अलग अंदाज से समझने के लिए, यही ना ? #jagritindia की खास बात यह होगी कि इस पर आप न केवल जानकारी पाएंगे, बल्कि जानकारी देंगे भी। इसके अलावा, इसके कारोबार में फायदे का लाभ भी आप को मिलेगा। बस आप यूं समझ लें कि आप केवल दूसरों की #टीआरपी बढ़ाने के लिए नहीं हैं।

अंग्रेज़ी भाषा में दो शब्दों को मिला कर एक शब्द बनाया गया है क्रॉडसोर्सिंग (crowdsourcing) , जिसका मतलब है भीड़ को संसाधन बनाना। हम ने जो सोचा है, और जिसे वास्तविक रूप देने की कोशिश कर रहे हैं, उसमें जो भी लोग साथ आएंगे, वे सभी एक दूसरे के लिए भीड़ के साथ ही साधन और संसाधन भी होंगे।

कैसे जुड़ें  ? 

आप इस समाचार पोर्टल www.jagritindia.com और इससे जुड़े सभी प्लेटफार्मों का हिस्सा बन सकते हैं। इसके लिए खबर, रिपोर्ट, लेख, फोटो, वीडियो, विज्ञापन सभी कुछ या इनमें से कुछ दे सकते हैं। इसमें जो भी हमारे साथ आएंगे उनके लिए एक अच्छी खबर यह भी है कि महीने के सबसे लोकप्रिय कंटेंट को पुरस्कृत भी किया जाएगा।

सोचें, समझें और तब साथ आएं

हम ने अपनी बात कह दी है। अब आप इस पर ठंडे मन से गौर करें, सोचें, समझें और फिर साथ आएं। झटपट और जल्दबाज़ी की जरूरत नहीं है। बाकी बातों के लिए कमेंट करें या फिर [email protected] पर संपर्क करें।

जय हिन्द

जागृत टीम

Leave a Reply

Your email address will not be published.