मोदी सरकार का विशेष वर्ग पर धयान केंद्रित है

मोदी सरकार के पहले आठ वर्षों में बनी योजनाएं एक विशेष वर्ग पर केंद्रित रही हैं। इसका कारण यह है कि मोदी सरकार उस वर्ग की दशा और दिशा बदलना चाहती है। ये बातें बिहार भाजपा ने कही हैं।

जागृत टीम

कटिहार । मोदी सरकार ने देश का आत्मविश्वास बढ़ाया है। आठ वर्ष पूर्व देश निराशा के वातावरण में डूबा हुआ था। देश की जनता के भरपूर आर्शीवाद से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र में सरकार बनी। उसके बाद केंद्र सरकार ने अपनी दृढ़ इच्छाशक्ति, अभूतपूर्व निर्णयों और प्रारंभ की गई कल्याणकारी योजनाओं से देश की प्रगति की गति बढ़ाई। उससे भारत का आत्मविश्वास बढ़ा है। ये बातें बिहार भाजपा के अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने मंगलवार को पार्टी सम्मेलन में कहीं।

गरीब कल्याण को प्राथमिकता

डॉ जायसवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी जी ने हमेशा गरीब कल्याण को प्राथमिकता दी है। सरकार की प्रत्येक योजना और हर नीति के केंद्र में गरीब है। सेवा, सुशासन और गरीब कल्याण ही मोदी सरकार की प्राथमिकता और लक्ष्य है। आज लोग यह महसूस करने लगे हैं कि दूरदर्शी नीति और कुशल नेतृत्व से भारत में कुछ भी संभव है।

मोदी सरकार का मूलमंत्र

मोदी जी की सरकार का मूल मंत्र सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास रहा है। इस दौरान हाशिये पर रहे लोगों तक पहुंचने की छटपटाहट और गरीबी उन्मूलन की कोशिश की गई है। राष्ट्र सर्वोपरि को लेकर सरकार चलाने की नीति और रीति रही है। गांव, गरीब, किसान, दलित, पीड़ित, शोषित, वंचित, पिछड़े, युवा, महिलाओं और किसानों के विकास के लिए सरकार संकल्पित नजर आई। दूसरी ओर आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति भी जारी रही। इससे भारत को विश्व पटल पर चमकने का मौका प्राप्त हुआ।

अर्थव्यवस्था को आमजन से जोड़ा गया

डॉ संजय जायसवाल ने कहा कि पहली बार किसी सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था और जीडीपी को आम जनता से जोड़ा। उज्ज्वला योजना, स्वच्छ भारत अभियान, जल जीवन मिशन, गरीब कल्याण अन्न योजना, किसान सम्मान निधि और आयुष्मान भारत योजना के कारण देश की अर्थव्यवस्था मजबूत हुई। मंदी के बावजूद देश की विकास दर दुनिया में सर्वाधिक बनी रही।

मुफ्त राशन

मोदी सरकार पिछले दो वर्षों से देश के लगभग 80 करोड़ लोगों तक जरूरी राशन मुफ्त पहुंचा रही है। इस पर तकरीबन 3.40 लाख करोड़ रुपये की लागत आ रही है। यह दुनिया की सबसे बड़ी खाद्यान्न वितरण योजना है। पिछले आठ वर्षों में देश की गरीबी दर 22 प्रतिशत से घटकर 10 प्रतिशत के नीचे आ गई।

मोदी का बिहार प्रेम

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने कहा कि मोदी जी को बिहार से खास लगाव है। यह किसी से छिपा नहीं है। यही कारण है कि बिहार के विकास के प्रति वे चिंतित भी रहते हैं। हर गरीब को पक्का घर देना हो, घर-घर शौचालय बनाना हो, घरों में नल से जल देना हो, बिजली पहुंचानी हो, गैस कनेक्शन देना हो, हर गरीब को बैंक से जोड़ना हो। यह सब काम बिहार की राजग सरकार ने किए हैं।

संकटमोचक

देश में कोरोना वायरस के कारण आर्थिक गतिविधियां ठप्प पड़ गईं। इससे गरीब प्रवासियों के सामने भोजन का संकट उत्पन्न हो गया था। ऐसे हालात में प्रधानमंत्री मोदी संकटमोचक के रूप में सामने आए। उनहोंने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत 80 कोरोड़ लोगों के लिए मुफ्त राशन की घोषणा की। साथ ही वन नेशन वन राशन कार्ड योजना को तेजी से पूरे देश में लागू करने का फैसला किया। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान बिहार के 15,729 लोगों ने इस योजना का लाभ लिया।

शिक्षा और रास्ते

पूरे बिहार ने मातृभाषा में नई शिक्षा नीति के निर्णय का हृदय से स्वागत किया है। इससे प्रतिभाशाली युवाओं के लिए नए अवसरों के द्वार खुले हैं। बिहार में 4 एक्सप्रेस वे बनाए जाने से लोगों को सहूलत होगी। बिहार भी बिना अटके और बिना भटके तीव्रता से आगे बढ़ेगा। पटना शहर को जाम से मुक्त करने के लिए ठोस कदम उठाए गए। सरकार ने 422 करोड़ की लागत से 2.20 किलोमीटर लंबे डबल डेकर फ्लाईओवर के निर्माण की स्वीकृति दी। कारगिल चौक से पटना साइंस कॉलेज तक बनने वाले चार लेन के इस महत्वाकांक्षी फ्लाईओवर का निर्माण कार्य शुरू हो गया है।

जनकल्याण

किसान सम्मान निधि से 84 लाख से ज्यादा किसानों के बैंक खाते में सीधे प्रतिवर्ष छह हजार रूपये भेजे जा रहे हैं। इसके अलावे आयुष्मान भारत- जन आरोग्य योजना के तहत बिहार में 960 से अधिक अस्पतालों का चयन किया गया है। इसके तहत अब तक 3.82 लाख से अधिक आर्थिक रूप से कमजोर लोगों का इलाज संभव हो सका है। प्रधानमंत्री जन धन योजना से बिहार में पांच करोड़ से ज्यादा लोग लाभान्वित हुए हैं।

इसके अतिरिक्त प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) से 36 लाख से अधिक बेघर लोगों को आशियाना बनाए जा रहे हैं। अब तक 24 लाख बेघर लोगों को घर मिल चुका है। इसी तरह शहरी इलाकों में प्रधानमंत्री आवास योजना से 3 लाख से अधिक बेघर लोगों को घर देने की स्वीकृति मिली है। एक लाख से ज्यादा बेघर लोगों को घर उपलब्ध करवा दिया गया है। वहीं सुकन्या समृद्धि योजना के तहत 15 लाख से अधिक निबंधित खाते खोले गए हैं।

वास्तव में मोदी जी की सरकार का संकल्प एक वैभवशाली भारत बनाने का रहा है। यह 130 करोड़ भारतीयों का सामूहिक संकल्प है।

इतने कम समय में इतना बड़ा बदलाव इतना आसान भी नहीं था। लेकिन नरेन्द्र मोदी जी के अहर्निश परिश्रम की पराकाष्ठा के फलस्वरूप संभव हो गया। इस बदलाव की कहानी, प्रगति की निशानी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अथक प्रयासों का ही परिणाम है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.